1937 में एक भारतीय था दुनिया का सबसे अमीर व्यक्ति, मीर उस्मान अली ख़ान

0
105
1937 में एक भारतीय था दुनिया का सबसे अमीर व्यक्ति, मीर उस्मान अली ख़ान

सालों से हैदराबाद में छिपा है निजाम का खज़ाना, भारतीय सेना के सबसे बड़े दानवीर थे मीर उस्मान

मीर उस्मान अली खान का जन्म 6 अप्रैल 1886 को हुआ था उन्होंने 1911 को हैदराबाद रियासत की बागडोर संभाली और 1947 में भारत की आजादी तक निजाम बने रहे ऐसे में उन्हें मॉडर्न हैदराबाद का आर्किटेक्ट भी कहा जाता है क्योंकि उस्मानिया यूनिवर्सिटी, उस्मानिया जनरल हॉस्पिटल और हैदराबाद हाई कोर्ट उन्हीं की देन है हैदराबाद का अधिकांश सार्वजनिक इमारतें उन्हें के कार्यकाल में बनाई गई हैं

1937 में टाइम पत्रिका के कवर पर मीर उस्मान अली खान थे और उन्हें दुनिया का सबसे अमीर शख्स बताया गया था माना जाता है कि आज की तारीख तक वो भारत के सबसे अमीर शख्स हैं अंबानी-टाटा उनके आस पास भी नहीं हैदराबाद रियासत के छठवें निजाम मीर महबूब अली खान की मृत्यु के बाद महज 25 साल की उम्र में उस्मान अली खान ने गद्दी संभाली। उनके 37 साल लंबे कार्यकाल में ही राज्य में बिजली, सड़क और रेलवे रूट आया

24 फरवरी 1967 में उस्मान अली खान के निधन के बाद 21 तोपों की सलामी दी गई और उनकी इच्छा थी कि उनके शव को मस्जिद-ए-जुडी में दफनाया जाए जोकि उनकी शाही कोठी के ठीक सामने थी

साथ ही ऐसा भी कहा जाता है कि उनके करोड़ो के खजानें आज भी हैदराबाद में स्थित राजा पैलेस के नीचे दबे है जिन्हे अभी तक नहीं निकाला गया है मीर अपनी देश भक्ति के लिए भी जानें जाते है और उनके लिए यह भी कहा गया था

उस मुल्क की शरहद को कोई छू नहीं सकता..जिस मुल्क कि शरहद के लिए अपना सब कुछ दाव पर लगाने वाले निजाम हो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here