वॉलमार्ट ने खरीदी फ्लिपकार्ट, अब फोनपे चमका रही है किस्मत

0
118
वॉलमार्ट ने खरीदी फ्लिपकार्ट

डिजिटल पेमेंट कंपनी फोनपे इतनी तरक्की करने वाली है।

इसे कहते हैं किस्मत! सबसे बड़ी देसी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट को जब दुनिया की सबसे बड़ी रिटेल चेन कंपनी वॉलमार्ट ने खरीदा तो उसे यह अंदाजा भी नहीं रहा होगा कि साथ में मिली डिजिटल पेमेंट कंपनी फोनपे इतनी तरक्की करने वाली है। अमेरिकी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट के साथ डील के वक्त उसकी सहायक कंपनी फोनपे को लेकर बहुत कुछ सोचा नहीं था। लेकिन, अब फोनपे भारत की टॉप स्टार्टअप के रूप में उभर रही है।

फ्लिपकार्ट बोर्ड ने हाल ही में फोनपे प्राइवेट लिमिटेड को खुद को नई इकाई के रूप में स्थापित करते हुए बाहरी निवेशकों से 1 अरब डॉलरb (करीब 65 अरब रुपये) जुटाने की अनुमति दे दी। न्यूज साइट ब्लूमबर्ग ने गुप्त सूत्रों के हवाले से खबर दी कि फ्लिपकार्ट बोर्ड ने फोनपे का वैल्युएशन 10 अरब डॉलर (करीब 650 अरब रुपये) निर्धारित किया है।

दिन दूनी, रात चौगुनी तरक्की flipkart engaged with walmart

खबर के मुताबिक, अगले कुछ महीनों में फंडिंग जुटाने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। तब फोनपे एक स्वतंत्र इकाई के रूप में काम करने लगेगी। हालांकि, वॉलमार्ट की मालिकाना हक वाली कंपनी फ्लिपकार्ट की उसमें बड़ी हिस्सेदारी बनी रहेगी। गौरतलब है कि फोनपे से होने वाला ट्रांजैक्शन पिछले कुछ वर्षों में चार गुना हो गया है। कंपनी अपनी प्रतिस्पर्धी कंपनी पेटीएम पर कड़ी टक्कर दे रही है। पेटीएम को दिग्गज निवेशक वॉरन बफेट का समर्थन हासिल है।

2015 में स्थापना, 2016 में नोटबंदी

फ्लिपकार्ट को छोड़ने वाले तीन दोस्तों ने फोनपे की स्थापना दिसंबर 2015 में की थी। फ्लिपकार्ट के संस्थापकों बिन्नी बंसल और सचिन बंसल ने एक साल के अंदर ही इसे यह सोचकर खरीदने का फैसला किया कि इससे फ्लिपकार्ट के ग्राहकों को पेमेंट की समस्या से मुक्ति मिल जाएगी। इसके एक साल बाद 8 नवंबर 2016 को मोदी सरकार ने नोटबंदी का ऐलान कर दिया। कैश का अचानक अभाव होने के कारण बड़े पैमाने पर लोगों न डिजिटल ट्रांजैक्शन का रुख किया जो फोनपे के लिए वरदान साबित हुआ।

ऐसे जागा फोनपे का भाग्य

उधर, रिलायंस जियो ने सस्ता डेटा देना शुरू किया और विभिन्न चीनी स्मार्टफोन कंपनियों ने भारत में मैन्युफैक्चरिंग शुरू कर दी जिससे स्मार्टफोन की कीमतें भी नीचे आ गईं। फोनपे को इंटरनेट और स्मार्टफोन के सस्ते होने का भरपूर फायदा मिला। अब अनुमान जताया जा रहा है कि फ्लिपकार्ट से अलग होकर स्वतंत्र इकाई बनने के बाद फोनपे का वैल्युएशन 14 से 15 अरब डॉलर (करीब 910 से 975 अरब रुपये ) तक हो जाएगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here